हाँ! मातृभूमि से प्यार मुझे। – Patriotic Poem in Hindi

0
20

Desh Bhakti Poetry

हाँ!  मातृभूमि  से  प्यार  मुझे।  : Patriotic Poem in Hindi

देशभक्ति का अर्थ है अपने देश के प्रति प्रेम । यह गुण देश के नागरिकों को अपने देश के लिए निस्वार्थ भाव से काम करने और इसे बेहतर बनाने के लिए प्रेरित करता है। एक सही मायने में विकसित देश सच्चे देशभक्तों से बना है। दूसरे शब्दों में, देशभक्ति का मतलब है देश का हित पहले रखना और फिर अपने बारे में सोचना। 

1 Best Patriotic Poem in Hindi

हाँ!  मातृभूमि  से  प्यार  मुझे। 


हाँ!  मातृभूमि  से  प्यार  मुझे। 


मैं  ह्रदय  खोल के   कहता   हूँ 
भारत – भू पर  नित  मरता  हूँ, 
धरती शय्या, सित  आसन   है 
भूतल  अनुपम   सिंहासन   है, 
इसकी  ममता  का  पार    नहीं 
बिन   इसके   है   उद्धार    नहीं। 
यह देश दिया  जीने का  दृढ़ आधार मुझे 

हाँ! मातृभूमि  से  प्यार मुझे। 


कण-कण में  सौरभ   बिखरा   है 
आनन   माँ   तेरा    निखरा    है, 
फूलों   की   अनुपम   घाटी    में 
केसर   विहँसे    इस   माटी    में, 
पावन , शीतल , मृदु   नीर   यहाँ 
मिटती  जनमों   की   पीर   यहाँ। 
तू मिली,धरा पर मिला स्वर्ग का  सार  मुझे 
         
हाँ! मातृभूमि  से  प्यार  मुझे। 


भाता     तेरा     दुकूल      मुझे 
संगम,  सरिता  का  कूल   मुझे, 
तालों में  खिलता  नील- कमल 
चादर  तुषार  की  मंजु ,  धवल, 
मलयानिल  बहता   ले    सुगंध 
उड़ता   पराग   होके    अबन्ध। 
धरती लगती  वनफूलों   का  आगार   मुझे 
         
हाँ! मातृभूमि   से   प्यार  मुझे। 


कंठों  से  मुखरित  गीत   मधुर 
कोमल  भावों  से  सिंचित  उर, 
पंछी   को   मिलता   दाना   है 
बेघर   का  यही   ठिकाना    है, 
पापों   का   होता   नाश   यहाँ 
हारों  को  मिलती  आस   यहाँ। 
तेरे  बिन  जीवन  लगता  है  निस्सार मुझे
       
हाँ! मातृभूमि  से  प्यार  मुझे। 


– अनिल मिश्र प्रहरी। 
 

1 Best Patriotic Poem in Hindi –


1616490059281 1283684126 e1620761593501 Patriotic Poem in Hindi
अनिल मिश्र प्रहरी

Patriotic Poems More