5 Best Love Poems in Hindi

Love poems in Hindi Shubhvani

मै जिन्दगी का वो फलसफा लिखू कैसे,
किन लम्हों ने की थी क्या खता लिखू कैसे,
हर एक पल का वो साथ ख्वाब सा था,
कितना हसींन था वो सिलसिला लिखू कैसे,

Read More

किसी बेइज्ती को यूं दिल से ना लगा लेना – Poem on Women Empowerment

Poem on Women Empowerment

किसी बेइज्ती को यूं दिल से ना लगा लेना,
पति है परमेश्वर तेरा,
धूल कदमो की उठा लेना,
माथे का सिंदूर बना लेना,
बाबा की इज्जत है आर्षित तुझी पे

Read More

क्या-क्या किया और क्या-क्या कराया – Poem on Selfishness

Poem On Labor

क्या-क्या किया और क्या-क्या कराया
इस लाइफ ने बड़ा सताया-बड़ा सताया
दिन मुझको औकात, दिखाने वाले आ गए,,,
पाँव में छाले आ गए, पाँव में छाले आ गए…

Read More

Poem on Philosophy of life

Poem on Philosophy

जंगल, पहाड़, सेहरा, नदी, देखते चले
राहो की धुप छाँव को भी देखते चले
क्या जाने कब कहाँ पर कोई लूट ले हमे
शहरो की शाहराह गली देखते चले

Read More

Poem on Desh Prem in hindi – Jai Hind Ki Sena

Poem on Desh Prem

जिंदगी जब थम गयी प्रकृति के प्रभाव में
रोशनी तब छिप गयी इन पर्वतो की छाव में
जब कोई भी हाथ आगे रासता न दे सके तब
सेना ही मरहम बनी हर जख्म और हर घाव में

Read More

किस बात पर गर्व करे…..? – Desh Bhakti Poetry

Desh Bhakti Poetry

जवानों की सर कटी लाशों पर…?
सरकार में बैठे अय्याशों पर….?
स्विस बैंकों के राज़ पर…?
प्रदर्शनकारियों पर होते लाठीचार्ज पर…?

Read More

तीन रंगोँ मेँ है सिमटी अपने देश की कहानी – Patriotic Poem in Hindi

Patriotic Poem in Hindi

“तीन रंगोँ मेँ है सिमटी
अपने देश की कहानी
चलो दोहराता हूँ उसे
अपनी जुबानी

केसरी रंग प्रतीक है बलिदान का
देश के प्रति

Read More

मुल्क तेरी बर्बादी के आसार नज़र आते है – Poem on Desh bhakti in Hindi

Poem on Desh bhakti in Hindi

मुल्क तेरी बर्बादी के आसार नज़र आते है ,
चोरों के संग पहरेदार नज़र आते है

ये अंधेरा कैसे मिटे , तू ही बता ऐ आसमाँ ,
रोशनी के दुश्मन चौकीदार नज़र आते है

Read More