Hartalika Teej 2020: Date, Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Vrat Katha and Timing of Hindu festival in India

HARTALIKA TEEJ 2020

Hartalika Teej 2020: Date, Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Vrat Katha and Timing of Hindu festival in India

हरतालिका तीज का यह प्रसिद्ध व्रत भादों मास के शुक्लपक्ष में तृतीया को किया जाता है . तृतीया तिथि को किये जाने के कारण स्त्रित्यों में यह व्रत अधिकतर तीजों नाम से जाना जाता है .

इस वर्ष हरतालिका तीज का त्योहार 21 अगस्त को मनाया जाएगा। यह त्योहार विवाहित हिंदू महिलाओं के लिए एक विशेष महत्व रखता है क्योंकि वे अपने पति की लंबी आयु के लिए प्रार्थना करती हैं। भाद्र मास के शुक्ल पक्ष की तीज को हर साल हरितालिका तीज के रूप में मनाया जाता है।

महिलाओं से इस दिन व्रत रखने और शाम को पानी और भोजन का सेवन करने की अपेक्षा की जाती है। हिंदू विश्वासियों का कहना है कि यह देवी पार्वती थीं जिन्होंने सबसे पहले उपवास किया था जिसके बाद उन्होंने भोलेनाथ शिव शंकर को अपने पति के रूप में प्राप्त किया।

भले ही देश के विभिन्न हिस्सों में रहने वाली महिलाएं इसे अलग तरह से मनाती हैं, लेकिन कुछ विशिष्ट नियम हैं जो सभी के लिए सामान्य हैं और जिनका पालन करना महत्वपूर्ण है। सिर्फ शादीशुदा ही नहीं, अविवाहित लड़कियां भी इस दिन व्रत रख सकती हैं।

यह गणेश चतुर्थी से एक दिन पहले मनाया जाता है। यदि आप उन लोगों में से एक हैं जो इस दिन व्रत का पालन करेंगे, तो यहां आपको पूजा विधी से लेकर मुहूर्त और व्रत कथा तक सभी चीजों की एक सूची दी गई है।

हरितालिका पूजा मुहूर्त:

प्रातःकाल: 05:54 बजे से 08:30 बजे तक

प्रदोषकाल:  शाम  06:54 से रात 09:06 बजे तक।

Hartalika Teej 2020: Date, Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Vrat Katha and Timing of Hindu festival in India

हरतालिका तीज: कुंवारी कन्याओं के लिए महत्व

माता पार्वती ने भगवान शिव को पति स्वरुप में पाने के लिए कठोर तप किया था। इसके लिए उन्होंने अपने हाथों से स्वयं शिवलिंग बनाया और उसकी विधि विधान से पूजा की। इसके फलस्वरूप भगवान शिव उनको पति स्वरुप में प्राप्त हुए। कुंवारी कन्याएं सुयोग्य वर की अभिलाषा से हरतालिका तीज का व्रत करती हैं ताकि उनको भी माता पार्वती की तरह ही मनचाहा वर प्राप्त हो सके।

पूजा समाग्री

हरियाली तीज की पूजा में काले रंग की गीली मिट्टी

पीले रंग का कपड़ा, बेल पत्र

केले के पत्ते,धतूरा, आंकड़े के पत्ते, तुलसी, शमी के पत्ते,

जनेऊ,धागा और नया कपड़ा रखें.

वहीं, पार्वती शृंगार के लिए

चूडियां, महौर, खोल, सिंदूर, बिंदी, बिछुआ, मेहंदी, आल्ता, सुहाग पूड़ा, कुमकुम, कंघी, सुहागिन के श्रृंगार की चीजें होनी चाहिए.

इसके अलावा श्रीफल, कलश, अबीर, चंदन, तेल और घी, कपूर, दही, चीनी, शहद ,दूध और पंचामृत आदि एक थाली में सजा लें.

पूजा शुरू करने से पहले काली मिट्टी के प्रयोग से भगवान शिव और मां पार्वती तथा भगवान गणेश की मूर्ति बनाएं. फिर थाली में सुहाग की सामग्रियों को सजा कर माता पार्वती को अर्पित करें.

Hartalika Teej 2020: Date, Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Vrat Katha and Timing of Hindu festival in India

व्रत विधि


पार्वती जी बोली – हे स्वामी ! आपने इस व्रतराज का नाम तो बता दिया किन्तु मुझे इसकी विधि एवं फल भी बताईये कि इसके करने से किस फल की प्राप्ति होती है .तब भगवान शंकर जी बोले – इस स्त्री जाती के अतियुत्तम व्रत की विधि सुनिए .सौभाग्य की इच्छा रखने वाली स्त्रियाँ इस व्रत को विधि पूर्वक करें .

उसमें विविध रंगों के उत्तम रेशमी वस्त्र की चाँदनी ऊपर तान दें .चन्दन आदि सुगन्धित द्वव्यों को लेपन करके स्त्रियाँ एकत्र हों . शंख ,भेरी ,मृदंग आदि बजाओ .विधि पूर्वक मंगलाचार करके श्री गौरी शंकर की बालू प्रतिमा को स्थापित करें .फिर भगवान् शंकर पार्वती जी का गंध ,धूप ,पुष्प आदि से विधिपूर्वक पूजन करें .अनेक नैवेद्यों का भोग लगावों और रात्रि का जागरण करें .नारियल ,सुपारी ,जंवारी ,नीबूं ,लौंग ,अनार ,नारंगी आदि ऋतूफलों तथा फूलों को एकत्रित करके धूप ,दीप आदि से पूजन करके कहें –

हे कल्याण स्वरुप शिव ! हे मंगलरूप शिव ,हे मंगल रूप महेश्वरी ,हे शिवे ! सब कामनाओं को देने वाली देवी कल्याण रूप तुम्हे नमस्कार है .कल्याण स्वरुप माता पार्वती ,हम तुम्हे नमस्कार करते हैं .भगवन शंकर जी को सदैव नमस्क्कार करते हैं .

हे ब्रह्म रूपिणी जगत का पालन करने वाली माँ आपको नमस्कार है .हे सिंहवाहिनी ! मैं सांसारिक भय से व्याकुल हूँ ,तुम मेरी रक्षा करो .हे महेश्वरी ! मैंने इसी अभिलाषा से आपका पूजन किया है .हे पार्वती माता आप मेरे ऊपर प्रसन्न होकर मुझे सुख और सौभाग्य प्रदान कीजिये .इस प्रकार के शब्दों द्वारा उमा सहित शंकर जी का पूजन करें .

विधिपूर्वक कथा सुनकर गौ ,वस्त्र ,आभूषण आदि ब्राह्मणों को दान करें .इस प्रकार व्रत करने वाले के सब पाप नष्ट हो जाते हैं . 

Hartalika Teej 2020: Date, Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Vrat Katha and Timing of Hindu festival in India

इस मंत्र का करें जाप


‘उमामहेश्वरसायुज्य सिद्धये हरितालिका व्रतमहं करिष्ये’


हरतालिका तीज व्रत की कथा – 

जिसके पास केशों पर मंदार के पुष्पों की माला शोभा देती है और जिन भगवान् शंकर के मस्तक पर चन्द्र और कंठ में मुंडों की माला पड़ी हुई है ,जो माता पार्वती दिव्य वस्त्रों से तथा भगवान् शंकर दिगंबर वेश धारण किये हैं ,उन दोनों भवानी शंकर को नमस्कार करता हूँ .

कैलाश पर्वत के सुन्दर शिखर पर माता पार्वती जी ने श्री महादेव जी से पूछा – हे महेश्वर ! मुझ से आप वह गुप्त से वार्ता कहिये जो सबके लिए सब धर्मों से भी सरल तथा महान फल देने वाली हो .हे नाथ ! यदि आप भली भाँती प्रसन्न है ,तो आप उसे मेरे सम्मुख प्रकट कीजिये .हे जगत नाथ ! आप यदि मध्य और अंत रहित हैं ,आपकी माया का कोई पार नहीं हैं .आपको मैंने किस भाँती प्राप्त किया है ? कौन से व्रत ,तप या दान के पुण्य फल से आप मुझको वर रूप में मिले ?

श्री महादेव जी बोले-हे देवी! यह सुन,मैं तेरे सम्मुख उस व्रत को कहता हूँ, जो परम गुप्त है, जैसे तारागणों में चन्द्रमा और ग्रहों में सूर्य, वर्गों में ब्राह्मण, देवताओं में गंगा, पुराणों में महाभारत, वेदों में साम और इन्द्रियों में मन श्रेष्ठ है। वैसे ही पुराण और वेद सबमें इसका वर्णन आया है। जिसके प्रभाव से तुमको मेरा आधा आसन प्राप्त हुआ है। हे प्रिये! उसी का मैं तुमसे वर्णन करता हूँ, सुनो-भाद्रपद ( भादों ) मास के शुक्लपक्ष की हस्त नक्षत्र संयुक्त तृतीया (तीज) के दिन इस व्रत का अनुष्ठान मात्र करने से सब पापों का नाश हो जाता है। तुमने पहले हिमालय पर्वत पर इसी महान व्रत को किया था, जो मैं तुम्हें सुनाता हूँ।

Hartalika Teej 2020: Date, Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Vrat Katha and Timing of Hindu festival in India

पार्वती जी बोलीं- हे प्रभु इस व्रत को मैंने किसलिए किया था, यह मुझे सुनने की इच्छा है सो, कृपा करके कहिये। |

शंकर जी बोले-आर्यावर्त में हिमालय नामक एक महान पर्वत है, जहाँ अनेक प्रकार की भूमि अनेक प्रकार के वृक्षों से सुशोभित है, जो सदैव बर्फ से ढके हुए तथा गंगा की कल-कल ध्वनि से शब्दायमान रहता है। हे पार्वती जी! तुमने बाल्यकाल में उसी स्थान पर परम तप किया था और बारह वर्ष तक के महीने में जल में रहकर तथा बैशाख मास में अग्नि में प्रवेश करके तप किया। श्रावण के महीने में बाहर खुले में निवास कर अन्न त्याग कर तप करती रहीं। तुम्हारे उस कष्ट को देखकर तुम्हारे पिता को बड़ी चिन्ता हुई। वे चिन्तातुर होकर सोचने लगे कि मैं इस कन्या की किससे शादी करें? इस अवसर पर दैवयोग से ब्रह्मा जी के पुत्र नारद जी वहाँ आये। देवर्षि नारद ने तुम शैलपुत्री को देखा। तुम्हारे पिता हिमालय ने देवर्षि को अर्घ्य, पाद्य, आसन देकर सम्मान सहित बिठाया और कहा-हे मुनीश्वर! आपने यहाँ तक आने का कष्ट कैसे किया, कहिये क्या आज्ञा है?

नारद जी बोले-हे गिरिराज! मैं विष्णु भगवान का भेजा हुआ यहाँ आया हूँ। तुम मेरी बात सुनो। आप अपनी कन्या को उत्तम वर को दान करें। ब्रह्मा, इन्द्र, शिव आदि देवताओं में विष्णु भगवान के समान कोई भी उत्तम नहीं है। इसलिए मेरे मत से आप अपनी कन्या का दान भगवान विष्णुको ही दें। हिमालय बोले-यदि भगवान वासुदेव स्वयं ही कन्या को ग्रहण करना चाहते हैं और इस कार्य के लिए ही आपका आगमन हुआ है तो वह मेरे लिए गौरव की बात है। मैं अवश्य उन्हें ही हूँगा। हिमालय का यह आश्वासन सुनते ही देवर्षि नारद जी आकाश में अन्तर्धान हो गये और शंख, चक्र, गदा, पद्म एवं पीताम्बरधारी भगवान विष्णु के पास पहुँचे। | नारद जी ने हाथ जोड़कर भगवान विष्णु से कहा-प्रभु! आपका विवाह कार्य निश्चित हो गया है। इधर हिमालय ने पार्वती जी से प्रसन्नता पूर्वक कहा-हे पुत्री मैंने तुमको गरुड़ध्वज भगवान विष्णु को अर्पण कर दिया है।

पिता के इन वाक्यों को सुनते ही पार्वती जी अपनी सहेली के घर गईं और पृथ्वी पर गिरकर अत्यन्त दुखित होकर विलाप करने लगीं। । उनको विलाप करते हुए देखकर सखी बोली-हे देवी! तुम किस कारण से दुःख पाती हो, मुझे बताओ। मैं अवश्य ही तुम्हारी इच्छा पूर्ण करेंगी। पार्वती बोली-हे सखी! सुन, मेरी जो मन की अभिलाषा है, सुनाती हूँ। मैं श्री महादेव जी को वरण करना चाहती हूँ, मेरे इस कार्य को पिताजी ने बिगाड़ना चाहा है। इसलिये मैं निःसन्देह इस शरीर का त्याग करूँगी।

Hartalika Teej 2020: Date, Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Vrat Katha and Timing of Hindu festival in India

पार्वती के इन वचनों को सुनकर सखी ने कहा-हे देवी! जिस वन को तुम्हारे पिताजी ने न देखा हो तुम वहाँ चली जाओ। तब हे देवी पार्वती! तुम अपनी सखी का यह वचन सुन ऐसे ही वन को चली गईं। पिता हिमालय ने तुमको घर पर न पाकर सोचा कि मेरी पुत्री को कोई देव, दानव अथवा किन्नर हरण करके ले गया है। मैंने नारद जी को वचन दिया था कि मैं पुत्री का गरुड़ध्वज भगवान के साथ वरण करूंगा। हाय, अब यह कैसे पूरा होगा? ऐसा सोचकर वे बहुत चिंतातुर हो मूर्छित हो गये। तब सब लोग हाहाकार करते हुए दौड़े और मूर्छा दूर होने पर गिरिराज से बोले कि हमें आप अपनी मूर्छा को कारण बताओ। हिमालय बोले-मेरे दु:ख का कारण यह है कि मेरी रत्नरूपी कन्या को कोई हरण कर ले गया या सर्प डस गया या किसी सिंह या व्याघ्र ने मार डाला है। वह ने जाने कहाँ चली गई या उसे किसी राक्षस ने मार डाला है।

इस प्रकार कहकर गिरिराज दुःखित होकर ऐसे कांपने लगे जैसे तीव्र वायु के चलने पर कोई वृक्ष कांपता है। तत्पश्चात हे पार्वती, तुम्हें गिरिराज साथियों सहित घने जंगल में ढूंढने निकले। सिंह, व्याघ्र, रीछ आदि हिंसक जन्तुओं के कारण वन महाभयानक प्रतीत होता था। तुम भी सखी के साथ भयानक जंगल में घूमती हुई वन में एक नदी के तट पर एक गुफा में पहुँची। उस गुफा में तुम आनी सखी के साथ प्रवेश कर गईं। जहाँ तुम अन्न जल का त्याग करके बालू का लिंग बनाकर मेरी आराधना करती रहीं। उस समय पर भाद्रपद मास की हस्त नक्षत्र युक्त तृतीया के दिन तुमने मेरा विधि विधान से पूजन किया तथा रात्रि को गीत गायन करते हुए जागरण किया।

तुम्हारे उसे महाव्रत के प्रभाव से मेरा आसन डोलने लगा। मैं उसी स्थान पर आ गया; जहाँ तुम और तुम्हारी सखी दोनों थीं। मैंने आकर तुमसे कहा हे वरानने, मैं तुमसे प्रसन्न हूँ, तू मुझसे वरदान मांग। तब तुमने कहा कि हे देव, यदि आप मुझसे प्रसन्न हैं तो आप महादेव जी ही मेरे पति हों . मैं तथास्तु ऐसा कहकर कैलाश पर्वत को चला गया और तुमने प्रभात होते ही मेरी उस बालू की प्रतिमा को नदी में विसर्जित कर दिया .हे शुभे ! तुमने वहाँ अपनी सखी सहित व्रत का परायण किया .

इतने में तुम्हारे पिता हिमवान भी तुम्झे खोजते – खोजते उसी घने बन में आ पहुंचे .उस समय उन्होंने नदी के तट के दो कन्याओं को देखा तो वे तुम्हारे पास आ गए और तुम्हारे ह्रदय से लगाकर रोने लगे .और बोले – बेटी तुम इस सिंह व्याघ्री युक्त जंगल में क्यों चली आई ? तुमने कहा हे पिता ,मैंने पहले ही अपना शरीर शंकर जी को समर्पित कर दिया था ,किन्तु आपने इसके  विपरीत कार्य किया .इसीलिए मैं वन में चली गयी .ऐसा सुनकर हिमवान ने तुमसे कहा कि मैंने तुम्हारी इच्छा के विरुद्ध यह कार्य नहीं करूँगा .तब वे तुम्हे लेकर घर को आये और तुम्हारा विवाह मेरे साथ कर दिया गया .हे प्रिये ,उसी व्रत के प्रभाव से तुमको मेरा अर्धसान प्राप्त हुआ .इस व्रतराज को मैंने भी अभी तक किसी के सम्मुख वर्ण नहीं किया है . 

हे देवी ! अब मैंने तुम्हे यह बताता हूँ कि इस व्रत का यह नाम क्यों पड़ा ? तुमको सखी हरण करके ले गयी थी ,इसीलिए हरतालिका नाम पड़ा.


Hartalika Teej 2020: Date, Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Vrat Katha and Timing of Hindu festival in India

Hartalika Varta Katha Video

Hartalika Teej 2020: Date, Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Vrat Katha and Timing of Hindu festival in India

Click to do Shiv Aarti

HARTALIKA TEEJ 2020
LORD SHIVA & PARVATI

Hartalika Teej 2020: Date, Puja Vidhi, Samagri, Muhurat, Vrat Katha and Timing of Hindu festival in India आपको कैसा लगा कमैंट्स में अवश्य बतायें, आपके किसी भी प्रश्न एवं सुझावों का स्वागत है। शेयर करें, जुड़े रहने के लिए सब्सक्राइब करें । धन्यवाद।

यदि आप इस ब्लॉग पर हिंदी में अपना कोई आर्टिकल (Guest Post), कोई संस्मरण या अपने अनुभव जो भी जानकारी साझा करना चाहते है तो कृपया अपनी एक फोटो के साथ E-mail करे ([email protected])। अच्छे लेखन को आपके नाम और आपकी फोटो के साथ प्रकाशित किया जाएगा । धन्यवाद।