पत्नी चालीसा!- hasya kavita Praise Your Wife

Humorous poems

पत्नी चालीसा!- hasya kavita Praise Your Wife

पत्नी चालीसा!


नमो नमो पत्नी महारानी;
तुम्हारी महिमा कोई ना जानी!
 
हमने समझा तुम अबला हो;
पर तुम तो सबसे बड़ी बला हो!
 
जिस दिन हाथ में बेलन आवे;
उस दिन पति खूब चिल्लावे!
 
सारे बेड पे पत्नी सोवे;
पति बैठा फर्श पे रोवे!
 
तुमसे ही घर मथुरा काशी;
और तुमसे ही घर सत्यानाशी!
 
पति चालीसा जो नर गावे सब सुख छोड़ परम दुःख पावे;
भूत पिशाच नज़र आ जावे, पत्नी जब असल रूप में आवे!

– शुभम सराफ

पत्नी चालीसा!- hasya kavita Praise Your Wife


hasya kavita Praise Your Wife